Union Bank of India- Products

Search

Home You are here : path Products path Personal path Know Your Customer

image अपने ग्राहक को जानें (केवाईसी) ग्राहकों के लिए सूचना

विशेषताएं

बैंक का ग्राहक कौन होता है?
केवाईसी के नियमों के अंतर्गत “ग्राहक” को निम्न तरह से परिभाषित किया गया है:

  • कोई व्यक्ति या संस्था जिसका बैंक में खाता हो और/या बैंक के साथ व्यापारिक संबंध हो.
  • वह व्यक्ति जिसकी तरफ से खाता संचालित किया जा रहा हो ( यानि की लाभार्थी)
  • ऐसे संव्यवहार के लाभार्थी जिनका कार्य विधि द्वारा अनुमत व्यावसायिक मध्यवर्ती संस्थाएं करती हो जैसे स्टॉक ब्रोकर, सनदी लेखाकार, सॉलिसीटर(पक्ष प्रचारक) आदि, और
  • कोई व्यक्ति या संस्था जो वित्तीय संव्यवहार से संबंधित हो, जो बैंक के लिये प्रतिष्ठा संबंधी जोखिमपूर्ण हो या किसी अन्य तरह के जोखिम से संबंधित हो जैसे, वायर ट्रान्सफर या एक ही संव्यवहार में उच्च मूल्य के मांग पत्र जारी करना.

बैंक किसी भी तरह के बैंकिंग संबंध स्थापित करने से पूर्व भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा जारी”अपने ग्राहक को जाने(केवाईसी)’” मानदंड के अनुरूप या बैंक द्वारा अपनाये जाने वाले विविध नियम व मानदंडो के अनुसार समुचित सावधानी बरतेगा.


समुचित सावधानी(ड्यू डिलिजेन्स) क्या है?
बैंक की समुचित सावधानी प्रणाली के अंतर्गत ग्राहक की नवीनतम फोटो लेना, ग्राहक के पहचान की पुष्टि करना, पते की पुष्टि करना व अन्य जानकारी जैसे व्यवसाय या व्यापार व आय के स्त्रोत आदि की जानकारी लेना आता है. समुचित सावधानी प्रणाली के अलावा यदि बैंक को आवश्यक लगता है तो वे किसी स्वीकार्य व्यक्ति द्वारा परिचय की मांग भी कर सकता है.

पहचान के प्रमाण

दस्तावेजों की सूची जो विभिन्न तरह के ग्राहकों से वांछित है.
ग्राहकों के प्रकार पहचान हेतु वांछित दस्तावेज
व्याक्ति
  1. पासपोर्ट (पारपत्र)
  2. पैन कार्ड
  3. निर्वाचन आयोग द्वारा जारी मतदाता परिचय पत्र
  4. फोटो सहित चालन अनुज्ञप्ति(ड्राइविंग लायसेन्स)
  5. नरेगा द्वारा जारी जॉब कार्ड जो राज्य सरकार के अधिकारी द्वारा हस्ताक्षरित हो.
  6. यूआईडीएआई कार्ड(आधार कार्ड)


  7. केवल कम जोखिम वाले ग्राहकों हेतु

  8. केंद्रीय सरकार/राज्य सरकार के विभाग,संवैधानिक/नियामक प्राधिकारी, सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रम,अनुसूचित व्यावसायिक बैंक और लोक वित्तीय संस्थान द्वारा जारी पहचान पत्र जिसमें आवेदक का फोटो हो.
  9. अन्य फोटो आईडी- राजपत्रित अधिकारी द्वारा व्यक्ति का अभिप्रमाणित फोटो.
पते हेतु
(पोस्ट बॉक्स क्रमांक स्वीकार नही किया जायेगा)
  1. पासपोर्ट (पारपत्र)
  2. निर्वाचन आयोग द्वारा जारी मतदाता परिचय पत्र
  3. फोटो सहित चालन अनुज्ञप्ति(ड्राइविंग लायसेन्स)
  4. नरेगा द्वारा जारी जॉब कार्ड जो राज्य सरकार के अधिकारी द्वारा हस्ताक्षरित हो.
  5. आधार कार्ड/यूआईडीएआई द्वारा जारी पत्र जिसमें नाम, पता व आधार नंबर. हो या अन्य कोई दस्तावेज़ जो केंद्रीय सरकार,नियामक से परमर्श पश्चात अधिसूचित किया जाता .
  6. यदि ग्राहक द्वारा दिया गया पते का प्रमाण,स्थानीय पते अर्थात जहां ग्राहक अभी निवास कर रहा है, से भिन्न है तो बैंक ग्राहक से स्थानीय पते के प्रमाण हेतु घोषणा पत्र ले सकता है जिसमें दर्शाये पते पर बैंक और ग्राहक के बीच होने वाले सभी पत्र व्यवहार किये जायेंगे. इस तरह के पत्र व्यवहार/स्थानीय पते हेतु किसी प्रमाण की अवश्यकता नही होगी.
संयुक्त व्यक्ति

संयुक्त व्यक्ति में से प्रत्येक व्यक्ति के लिए ऊपर दिये गये व्यक्ति के लिए लागू मानदंड अनुरूप..

अनिवासी भारतीय-व्यक्ति

पासपोर्ट (पारपत्र) और रेसिडेंस वीसा की कॉपी जिसमें विदेश का निवास पता और आवेदक की पासपोर्ट साइज़ फोटो हो. आवेदक का परिचय बैंकर/नोटरी पब्लिक/भारतीय दूतावास/स्थानीय ग्राहक के द्वारा किया जाये जिनका केवाईसी मानदंड पूर्ण हो

स्वामित्व प्रतिष्ठान
प्रतिष्ठान की पहचान, गतिविधियों व पते के लिये..

दुकान और संस्थान

  1. पंजीकरण प्रमाणपत्र (पंजीकृत प्रतिष्ठान के संदर्भ में)
  2. दुकान एवं संस्थान अधिनियम के अंतर्गत नगरपालिका प्राधिकारी द्वारा जारी प्रमाणपत्र या अन्य अनुरूप दस्तावेज़ जिससे संस्थान की गतिविधियों का पता चलता हो..
  3. विक्रय एवं आयकर रिटर्न
  4. सीएसटी/वैट प्रमाणपत्र
  5. विक्रय कर/सेवा कर/व्यावसायिक कर प्राधिकारी द्वारा जारी प्रमाणपत्र/पंजीकरण दस्तावेज़
  6. इंस्टीट्यूट ऑफ चार्टर्ड अकाउंटेंट ऑफ इंडिया द्वारा जारी लाईसेन्स,
  7. इंस्टीट्यूट ऑफ कॉस्ट अकाउंटेंट ऑफ इंडिया,
  8. इंस्टीट्यूट ऑफ कंपनी सेक्रेटरी ऑफ इंडिया,
  9. इंडियन मेडिकल काउंसिल,
  10. फुड़ एवं ड्रग कंट्रोल अथॉरिटी, आदि.
  11. डीजीएफ़टी कार्यालय द्वारा जारी आयातक/निर्यातक मानक (आईईसी).
    • प्रोपरायटर (मालिक) का नवीनतम पासपोर्ट साइज़ फोटो.
हिन्दु संयुक्त परिवार

एचयूएफ़ की पहचान, गतिविधियों, पते और खाता खोलने एवं उसके परिचालन हेतु

एचयूएफ़ के कर्ता एवं एचयूएफ़ के मुख्य भागीदार जो खाते(तों) के परिचालन के लिए प्राधिकृत है की पहचान एवं पते हेतु

निर्धारित संयुक्त हिन्दू परिवार पत्र जिसमें मुख्य भागीदारों के हस्ताक्षर हो. कर्ता द्वारा घोषणापत्र प्रत्येक कर्ता एवं प्रत्येक मुख्य भागीदार की पहचान हेतु कोई एक दस्तावेज़ (जो व्यक्ति की पहचान हेतु लागू थे) एवं उनके पते

  1. ऐसे सभी व्यक्तियों का नवीनतम पासपोर्ट (पारपत्र) साइज़ फोटो.
भागीदारी फ़र्म/एलएलपी
फर्म की पहचान, उसकी गतिविधियों , पते व खाता(ते) खोलने एवं उसके परिचालन के लिए प्रत्यायुक्त अधिकारी हेतु. खाता(ते) खोलने एवं उसके परिचालन करने वाले अधिकृत साझेदारों की पहचान एवं उनके पते हेतु.
  1. पंजीकरण प्रमाणपत्र(यदि पंजीकृत हो तो).
  2. साझेदारी का घोषणापत्र.
  3. साझेदारी आलेख.
  4. नामित (Designated) साझेदारी पहचान क्रमांक(केवल एलएलपी हेतु)
  5. फर्म की तरफ से कार्य करने वाले व्यक्ति के लिए आधिकारिक तौर पर वैध दस्तावेज़ मान्य है
    • अधिकृत व्यक्ति की पहचान हेतु कोई मान्य दस्तावेज़(जैसा व्यक्ति के वर्ग के लिए लागू है )एवं उनके पते
    • सभी साझेदारों के नवीनतम पासपोर्ट साइज़ फोटो.
कंपनी/ कोर्पोरेशन (निगम)
कंपनी/ कोर्पोरेशन की पहचान, उसकी गतिविधियों , पते व खाता(ते) खोलने एवं उसके परिचालन के लिए प्रत्यायुक्त अधिकारी हेतु.
खाता(ते) खोलने एवं उसके परिचालन करने वाले अधिकृत निदेशक/अधिकारियों की पहचान एवं उनके पते हेतु
  1. निगमीकरण प्रमाणपत्र
  2. कंपनी के बहिर्नियम व कंपनी के अंतर्नियम.
  3. निदेशकों के बायो-डाटा सहित नवीनतम सूची
  4. निदेशक मण्डल द्वारा जारी प्रस्ताव व मुख्तारनामा जिसमें प्रबन्धकों, अधिकारियों या कर्मचारियों को कंपनी की तरफ से कार्य करने की घोषणा की गई हो.
  5. प्रबन्धकों, अधिकारियों व कर्मचारियों को कंपनी की तरफ से कार्य करने हेतु जारी वैध दस्तावेज़ या मुख्तारनामा.
  6. केंद्रीय सरकार द्वारा जारी लायसेंस की कॉपी (केवल अनुच्छेद 25 की कंपनियों हेतु)
  7. सभी निदेशकों/अधिकृत अधिकारियों का नवीनतम पासपोर्ट साइज़ फोटो.
ट्रस्ट एवं फाउंडेशन्स
ट्रस्ट की पहचान, उसकी गतिविधियों , पते व खाता(ते) खोलने एवं उसके परिचालन के लिए प्रत्यायुक्त अधिकारी हेतु. ट्रस्ट के खाता(ते) खोलने एवं उसके परिचालन करने वाले अधिकृत ट्रस्टी की पहचान एवं उनके पते हेतु.
  1. पंजीयन प्रमाणपत्र,
  2. न्यास विलेख (ट्रस्ट डीड)
  3. मध्यस्थ का घोषणापत्र (Settlers Declaration).
  4. ट्रस्टी की सूची
  5. खाते खोलने एवं परिचालन हेतु प्रबंध समिति का घोषणापत्र..
  6. ट्रस्ट की तरफ से कार्य करने वाले अधिकारी हेतु जारी वैध दस्तावेज़ या मुख्तारनामा
संस्था, संघ, स्वयं सेवी संस्थाओ, क्लब व अन्य संघठन

संस्था की पहचान, उसकी गतिविधियों , पते व खाता(ते) खोलने एवं उसके परिचालन के लिए प्रत्यायुक्त अधिकारी हेतु.

संस्था के खाता(ते) खोलने एवं उसके परिचालन करने वाले अधिकृत प्रबंध समिति के सदस्यों की पहचान एवं उनके पते हेतु.

  1. पंजीयन प्रमाणपत्र (यदि पंजीकृत हो तो ),
  2. उप नियम
  3. प्रबंध समिति के सदस्यों की सूची, बायो-डेटा सहित,
  4. संस्था के खाते खोलने एवं उसके परिचालन हेतु प्रत्यायोजित व्यक्ति हेतु प्रबंध समिति का घोषणापत्र.
    • अधिकृत प्रबंध समिति के सदस्यों की पहचान हेतु कोई मान्य दस्तावेज़(जैसा व्यक्ति के वर्ग के लिए लागू है )एवं उनके पते
    • ऐसे सभी सदस्यों का नवीनतम पासपोर्ट साइज़ फोटो.
स्थानीय निकाय/सरकारी विभाग/सरकारी क्षेत्र के उपक्रम आदि
आवेदकों की पहचान, उसकी गतिविधियों, पते व खाता(ते) खोलने एवं उसके परिचालन करने वाले प्रत्यायोजित अधिकारियों की पहचान हेतु.

अधिसूचना/संकल्प/ मंजूरी पत्र व खाते परिचालन करने हेतु प्रत्यायोजित अधिकारियों का निर्धारण

अन इनकोरपोरटेड संस्था या बॉडी ऑफ इंडिविजुयल्स(संघ/संस्था/क्लब)
  1. पंजीयन प्रमाणपत्र (यदि पंजीकृत हो तो ),
  2. प्रबंध समिति के सदस्यों की सूची
  3. स्थानीय निकाय के उप नियम.
  4. इस प्रकार के संघ या बॉडी ऑफ इंडिविजुयल्स की प्रबंध समुदाय का घोषणा पत्र,
  5. संस्था की तरफ से कार्य करने हेतु प्रदान किया हुआ मुख्तारनामा. संस्था की तरफ से कार्य करने हेतु जिस व्यक्ति हो मुख्तारनामा दिया गया हो उसका आधिकारिक वैध दस्तावेज़.
  6. ऐसी संस्था या बॉडी ऑफ इंडिविजुयल्स का वैधानिक अस्तित्व स्थापित करने हेतु बैंक द्वारा वांछित दस्तावेज़.
  7. बैंक का खाता खोलने एवं उसके परिचालन हेतु संघ की प्रबंध समिति द्वारा घोषणा.

“आधिकारिक वैध दस्तावेज़” से मतलब है i) पासपोर्ट (पारपत्र) ii) ड्राइविंग लाईसेंस iii) स्थाई खाता क्रमांक (पैन )कार्ड iv) भारतीय निर्वाचन आयोग द्वारा जारी परिचय पत्र v) नरेगा द्वारा जारी जॉब कार्ड जिसमे राज्य सरकार के अधिकारी के हस्ताक्षर हो, v)यूनिक आईडेंटिफीकेशन ऑफ इंडिया द्वारा जारी पत्र जिसमें नाम व पता हो vii) आधार कर्मांक या अन्य कोई दस्तावेज़ जो केंद्रीय सरकार द्वारा नियामक से विचार कर अधिसूचित हो’. यह आवश्यक है कि पते का प्रमाण भी उपलिखित दस्तावेजों में सम्मलित हो.

जहा ग्राहक किसी और व्यक्ति/संस्था की तरफ से प्रतिष्ठित नियम के अनुसार कार्य करता है तो ऐसा हो सकता है कि खाते का परिचालन उसके असल धारक द्वारा किया जाए या जहा खाता किसी मध्यस्थ विश्वास पात्र व्यक्ति द्वारा किया जाए, तो ऐसी स्थिति में केवाईसी लाभार्थी स्वामी या mandate होल्डर, पर भी किया जा सकता है.

अवयस्क के नाम पर खाता खोलते समय, अविभावक का केवाईसी किया जाना चाहिए. अवयस्क के वयसक होने पर खाता उसके द्वारा ही केवाईसी पूर्ण होने पर परिचालित किया जाएगा.

ग्राहक के प्रकार, व्यापारिक संबंध, श्रेणी व पूर्ण धन शोधन एवं आतंकवाद हेतु प्रदान करने संबंधी वित्तीय जोखिम को ध्यान में रखते हुए संव्यवहार मूल्य की गणना कर “कम जोखिम” वाले ग्राहकों हेतु “सरलीकृत उपाय” अपनाये जायेंगे. कम जोखिम वाले ग्राहकों के वर्ग हेतु जिसमें सरलीकृत उपाय अपनाये गए है, निम्नमें से कोई भी दस्तावेज़ पहचान एवं पते की पुष्टी हेतु लिए जा सकते हैं.

i)केंद्रीय सरकार/राज्य सरकार के विभाग,संवैधानिक/नियामक प्राधिकारी, सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रम,अनुसूचित व्यावसायिक बैंक और लोक वित्तीय संस्थान द्वारा जारी पहचान पत्र जिसमें आवेदक का फोटो हो.

ii) अन्य फोटो आईडी- राजपत्रित अधिकारी द्वारा जारी पत्र जिसमें व्यक्ति का फोटो अभिप्रमाणित हो.

iii) किसी भी सेवप्रदाता का उपयोगिता बिल जो दो माह से अधिक पुराना न हो (विद्युत, टेलीफोन,पोस्टपेड मोबाइल फोन, पाइप्ड गैस, पानी का बिल)

iv) संपत्ति अथवा नगरपालिका कर की रसीद.

v) बैंक खाता अथवा डाक घर बचत बैंक खाता विवरण.

vi) सरकारी विभागों या सार्वजनिक क्षेत्र उपक्रमों द्वारा सेवानिवृत्त कर्मचारियों को जारी किए गए पेंशन अथवा पारिवारिक पेंशन भुगतान आदेश(पीपीओ),यदि उनमें पता दिया गया हो;

vii) राज्य अथवा केन्द्रीय सरकार के विभागों,सांविधिक या नियामक संस्थाओं,सार्वजनिक क्षेत्र उपक्रमों, अनुसूचित वाणिज्यिक बैंकों,वित्तीय संस्थाओं एवं सूचीबद्ध कंपनियों द्वारा नियोजकों से जारी किए गए आवास आबंटन पत्र. इसी प्रकार, सरकारी आवास आबंटित करने वाले ऐसे नियोजकों से अवकाश तथा लाइसेन्स करार; और

viii) सरकारी विभागों के विदेशी अधिकार क्षेत्र द्वारा जारी किए गए दस्तावेज़ और भारत में विदेशी दूतावास अथवा कार्यालय द्वारा जारी किया गया पत्र.

लघु बचत बैंक खाते के केवाईसी मानदंड में रियायत

जिन व्यक्तियों का आधिकारिक वैध दस्तावेज़ नही है वो भी बैंक में लघु खाता खुलवा सकते है. लघु खाता, बैंक के किसी आधिकारिक के सामने स्वयं की फोटो पर हस्ताक्षर करके या अंगूठा लगवाकर भी खुलवाया जा सकता है. इस तरह के खातों की कुछ सीमाएं है जैसे पूर्ण जमा की कुल राशि (वर्ष में एक लाख रुपये से ज्यादा नही ), कुल आहरण (माह में 10000 से अधिक नही) और शेष (किसी भी समय 50000 से अधिक नही). यह राशि 12 माह के लिए वैध होगी. उसके बाद ऐसे खातों को 1 वर्ष तक जारी रखा जाएगा. बशर्ते खाता धारक खाता खुलने के 12 माह के भीतर यह सुनिश्चित करता है कि उसने आधिकारिक वैध दस्तावेजों के लिए आवेदन किया है.

 

Re - केवाईसी


union

union

  • Rewarded

    Rewarded

    Earn reward points on transactions made at POS and e-commerce outlets

  • Book your locker

    Book your locker

    Deposit lockers are available to keep your valuables in a stringent and safe environment

  • Financial Advice?

    Financial Advice?

    Connect to our financial advisors to seek assistance and meet set financial goals.

  • ATM & Branch Network

    ATM & Branch Network

    Find ubi Branches and ATMs in proximity to your location.